दीपावली पर ऐसे करे अपने किचन की सफाई

दीपावली पर ऐसे करे अपने किचन की सफाई

कभी कैबिनेट्स में तो कभी बर्तनों में, कॉकरोच या कीड़े कब मिल जाएं किसे पता. जब आप रसोई का कार्य समाप्त करने के बाद सो जाते हैं तो ये बर्तनों या कैबिनेट्स पर घूमते देखे जा सकते हैं. इनका होना बीमारियों को न्योता देना है. भोजन बनाने के बाद भले आप स्लैब व फर्श की सफाई करते होंगे लेकिन ये बहुत ज्यादा नहीं है. इनसे कैसे छुटकारा पा सकते हैं, कुछ तरीका सुझा रहे हैं लाइफस्टाइल एक्सपर्ट सिद्धांत कचरू

  1. घर के अन्य स्थानों के अपेक्षा पिस्सू, चींटी या कॉकरोच सबसे ज्यादा रसोई में होते हैं. पर ऐसा क्यों? इन्हें नमी व भोजन की आवश्कता होती है जो रसोई में आराम से मिल जाता है. खासतौर पर बारिश के मौसम में ये बढ़ जाते हैं क्योंकि इस मौसम में नमी भी अधिक होती है. वहीं बर्तनों में वे इसलिए घुस जाते हैं क्योंकि वो उनके लिए शेड का कार्य करते हैं. दूसरा कारण बर्तनों का ठीक ढंग से साफ नहीं होना भी होने कि सम्भावना है.

  2. रसोई के काउंटरटॉप, कैबिनेट्स, फ्रिज व रसोई केफर्श को अच्छी तरह से साफ करें. कई बार भोजन के छोटे-छोटे कण इन पर छूट जाते हैं जो दिखाई नहीं देते हैं जिससे कीड़े जल्दी आते हैं. कार्य करने के दौरान यदि आटा, चावल आदि थोड़ा-सा भी फर्श पर गिरता है तो इसे तुरंत अच्छी तरह से साफ करें.

  3. रसोई हमेशा साफ होने के साथ-साथ सूखी रखें. खसतौर पर बारिश के मौसम में फर्श व स्लैब सूखा रखने की प्रयास करें. इसके लिए गीले कपड़े के बजाए सूखे कपड़े का प्रयोग करें. वहीं स्टोव को गीले कपड़े से साफ करने के बाद सूखे कपड़े से पोछें. वहीं तड़का लगाते वक्त ऑयल के छीटें दीवारों व स्लैब पर लग जाते हैं इसलिए ढक्कन लगाकर ही तड़का लगाएं. बेकिंग सोडा, कीटाणुनाशक व डिटर्जेंट के मिलावट से स्टोव के पीछे की दीवार व स्लैब साफ करें. इससे चिकनाई निकल जाएगी.

    • सफेद सिरका व पानी बराबर मात्रा में मिलाएं । इसे उस जगह पर स्प्रे करें जहां सबसे ज्यादा चींटियां आती हैं. वहीं जिन छेद से वो निकल रही हैं उन्हें भी बंद करें.
    • दालचीनी, लौंग व तेजपत्ते से भी चीटियां या पिस्सू भाग जाते हैं. तेजपत्ते को शक्कर या मीठी चीजों के टिब्बे में रख दें. तेजपत्तों को मसलकर उसका चसूरा बनाकर रसोई के कोनों में डाल दें.
    • कपूर भी बहुत ज्यादा असरदार होता है. जहां चीटियां या पिस्सू आते हैं इसे वहां डाल दें.
    • बेकिंग पाउडर व शक्कर को बराबर मात्रा में मिला लें. इसे उन सभी जगहों पर छिड़क दें जहां पर कॉकरोच या पिस्सू आते हैं. खासकर रसोई के सिंक या कोने में इसे जरूर छिड़कें । इसे हर तीन दिन में बदलकर छिड़कते रहें.
  4. कूड़ादान रसोई में न रखते हुए बालकनी या आंगन में ही रखें व ढक्कन टाइट बंद करें. कूड़ादान हर दिन में साफ करते रहें. प्रयोग की हुई चाय पत्ती, फल व सब्जियों के छिलके रसोई में नहीं रखें. रसोई में सभी सामान हवाबंद डिब्बे में रखें. रोटी भी हवाबंद डिब्बे में रखें क्योंकि इनकी खुशबू से कीड़े आने की संभावना बढ़ जाती है. प्रयोग की हुई प्लेट्स या बर्तन आदि को खुद साफ न करना हो, तो भी इनमें से जूठन हटाकर इन्हें पानी से निकालकर रखें. बर्तन धोने के बाद सिंक साफ़ करें.

  5. खाने की दुर्गंध से भी चींटी व पिस्सू आकर्षित होते हैं. इसके लिए खाना बनाने वाले जगह पर बेकिंग सोडा छिड़क दें. नींबू पानी से भरा कटोरा भी रख सकते हैं. इसके अतिरिक्त काउंटरटॉप पर पोछा लगाते समय सफेद सिरके की दो बूंद डाल सकते हैं. विनेगर, डिटर्जेंट व बेकिंग सोडा के मिलावट से स्टोव व स्लैब साफ करें. इससे सफ़ाई होने के साथ-साथ दुर्गंध भी चली जाएगी.