पैदा हुआ पाकिस्‍तान के अस्तित्‍व का सवाल, हिंदुस्तान को दे रहा युद्ध की धमकी

जम्‍मू कश्‍मीर से अनुच्‍छेद 370 हटाने व राज्‍य के पुनर्गठन के बाद मानों पाकिस्‍तान के अस्तित्‍व का सवाल पैदा हो गया है. इसे पाकिस्‍तान बांग्‍लोदश के गठन व हिंदुस्तान के साथ चार युद्धों से भी बड़ी घटना मान रहा है.

यही कारण है कि पाकिस्‍तानके सियासी दलों के साथ पत्रकार भी लगातार मनगढ़ंत बयान दे रहे हैं. कोई युद्ध की धमकी दे रहा है तो कोई पाकिस्‍तानियों से हिंदुस्तान के विरूद्ध एकजुट होने का आह्वान किया जा रहा है.

इसी कड़ी में पाकिस्‍तानी पत्रकार ने एक ट्वीट के जरिए बताया है कि कश्मीरी मुस्लिम व CRPF आमने-सामने आ गए हैं. हालांकि सीआरपीएफ व जम्मू और कश्मीर पुलिस ने इसका खंडन किया व तुंरत जवाब जारी कर बोला कि कश्मीर में सभी भारतीय सेनाएं एकजुट हैं व सभी तिरंगे की हिफाजत के लिए तैयार हैं.

पत्रकार ने ट्विटर हैंडल से लिखा है कि 'कश्मीर में तैनात भारतीय फौजों में आपसी झगड़ा प्रारम्भ हो गया है. एक मुस्लिम कश्मीरी पुलिसकर्मी ने CRPF के पांच जवानों की गोली मारकर मर्डर कर दी, क्योंकि उन जवानों ने एक गर्भवती मुस्लिम महिला को नहीं जाने दिया. उस महिला के पास कर्फ्यू पास नही था. इस घटनाक्रम के बाद कश्मीर में दशा बिगड़ गए हैं.'

यह ट्वीट के बाद CRPF ने जवाब दिया है कि पाक का यह दुष्प्रचार बेबुनियाद है. हमेशा की तरह सभी भारतीय सुरक्षाबल आपसी समन्वय से कार्य कर रहे हैं. देशभक्ति का जज्बा हर जवान के दिल में है. वर्दी का रंग अलग होने कि सम्भावना है, लेकिन हम तिरंगे का शान बढ़ाना ही हमारा फर्ज है.

इसी तरह जम्मू और कश्मीर के पुलिस ऑफिसर इम्तियाज हुसैन ने भी जवाब देते हुए लिखा है कि पाक के लोग आखिर किस काल्पनिक संसार में जी रहे हैं. यदि पाक के वेरीफाइड अकाउंट्स से ये बातें लिखी जा रही हैं, तो अंदाजा लगाया जा सकता है कि हिंदुस्तान के विरूद्ध किस तरह दुष्प्रचार हो रहा है.

कश्‍मीर के आईजी एसपी पणि ने बोला कि सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर कुछ लोग दुर्भावनापूर्ण अभियान चला रहा हैं. इसका ज़ोरदार ढंग से खंडन किया गया है. हम नागिरकों से अनुरोध करते हैं कि वो शरारती तत्वों की ओर से चलाए जा रहे इस तरह के दुर्भावनापूर्ण अभियान को कोई तव्वजो न दें. हमने ये मुद्दा सर्विस (सोशल मीडिया) देने वालों के सामने भी उठाया है जिससे वो क़ानून के मुताबिक कार्रवाई कर सकें.