पाक के पीएम इमरान खान को चाइना ने जोरदार झटका दिया

पाक के पीएम इमरान खान को चाइना ने जोरदार झटका दिया

कश्मीर पर प्रोपेगंडा का एजेंडा लेकर बीजिंग पहुंचे पाक के पीएम इमरान खान को चाइना ने जोरदार झटका दिया है। चाइना ने अपने स्टैंड से यू-टर्न लेते हुए कश्मीर को भारत-पाकिस्तान का द्विपक्षीय मामला माना है। साथ ही दोनों राष्ट्रों को आपसी वार्ता से इसको सुलझाने की नसीहत दी है। चीन के विदेश मंत्रालय ने राष्ट्रपति शी जिनपिंग के हिंदुस्तान दौरे से पहले ये चौंकाने वाला बयान दिया है।

मंगलवार को ने कहा, 'चीन ने हिंदुस्तान व पाक से आपसी विश्वास बढ़ाने व संबंधों को सुधारने के लिए कश्मीर सहित विवादों पर वार्ता को मजबूत करने का आह्वान किया। यह हिंदुस्तान व पाक दोनों के साझा हितों के अनुरूप है व राष्ट्रों व अंतरराष्ट्रीय समुदाय की अपेक्षा है। '

बता दें कि इससे पहले अमेरिका ने भी इमरान खान को सार्वजनिक रूप से यह बात कही थी कि यह दोनों राष्ट्रों के बीच का मामला है। इसे दोनों देख वार्ता के जरिए सुलझाएं।

बता दें कि पाक के प्रधानमंत्री चीन के अपने तीसरे आधिकारिक दौरे के तहत मंगलवार को बीजिंग पहुंचे थे। वे यहां चाइना के राष्ट्रपति शी जिनपिंग व अपने समकक्ष ली क्यांग के साथ क्षेत्रीय व द्विपक्षीय मुद्दों पर बातचीत की। द न्यूज इंटरनेशनल की रिपोर्ट के अनुसार, बीजिंग में खान के पहुंचने पर उनका स्वागत चाइना के संस्कृति व पर्यटन मंत्री लुओ शुगांग, चाइना में पाक के राजदूत नग्मना हाशमी व अन्य अधिकारियों ने किया।

खान के साथ पहुंचे उच्च स्तरीय प्रतिनिधिमंडलमें विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी, योजना, विकास व सुधार मंत्री खुसरो बख्तियार, निवेश बोर्ड (बीओआई) के चेयरमैन जुबैर गिलानी व अन्य वरिष्ठ ऑफिसर हैं। इमरान के सम्मान में शी व ली भिन्न-भिन्न प्रोग्राम आयोजित किए गए।

दोनों प्रधानमंत्रियों की मीटिंग के दौरान कई समझौतों व ज्ञापनों पर हस्ताक्षर हुए। खान चीन-पाकिस्तान इकोनॉमिक कॉरीडोर (सीपीईसी) की परियोजनाओं के विस्तार व कृषि, उद्योग व सामाजिक-आर्थिक क्षेत्रों में योगदान पर चर्चा हुई।

अगस्त 2018 में पीएम बनने के बाद खान की यह तीसरी चाइना यात्रा थी। इससे पहले वे इसी वर्ष अप्रैल में दूसरी बेल्ट एंड रोड फोरम में शामिल होने व चाइना के नेतृत्व से सीपीईसी के विस्तार पर चर्चा करने के लिए गए थे। उनकी पहली आधिकारिक चाइना यात्रा नवंबर 2018 में हुई थी।