एक शख्स की अमेरिकी ड्रोन हमलों में हुई मृत्यु, इतने लोग इस्लामिक स्टेट में हुए भर्ती

 एक शख्स की अमेरिकी ड्रोन हमलों में हुई मृत्यु, इतने लोग इस्लामिक स्टेट में हुए भर्ती

आतंकवादी संगठन इस्लामिक स्टेट ज्वॉइन करने वाले केरल के एक शख्स की अमेरिकी ड्रोन हमलों में मृत्यु हो गई. मुहम्मद मुहसिन नाम का ये शख्स केरल के मल्लपुरम जिले के इडप्पल का रहने वाला था व अक्टूबर 2017 में ISIS में भर्ती के लिए चला गया था.

Image result for एक शख्स की अमेरिकी ड्रोन हमलों में हुई मृत्यु

वैसे वो अफगानिस्तान में था, जहां 18 जुलाई को हुए ड्रोन हमलों में उसकी मृत्यु हो गई. उसके साथ इस्लामिक स्टेट के एक अन्य कमांडर हुजैफा-अल-बकिस्तानी के मारे जाने की भी समाचार है.

  • मुहम्मद मुहसिन के परिजनों को उसकी मृत्यु की समाचार अफगानिस्तान से आए एक अनजान वॉट्सएप मैसेज के जरिए मिली. सूत्रों के मुताबिक मुहसिन इन दिनों अफगानिस्तान के खोरोसन प्रदेश में था.
  • मलयालम भाषा में प्राप्त उस मैसेज में लिखा था, 'आपका भाई शहीद होना चाहता था. भगवान ने उसकी आकांक्षा के मुताबिक उसकी ख्वाहिश पूरी कर दी. 10 दिन पहले हुए अमेरिकी सेना के ड्रोन हमले में वो शहीद हो गया.'
  • आगे उस मैसेज में लिखा था, 'कृपया ये बात पुलिस को ना बताएं, नहीं तो वे आपके घर आकर आपको परेशान करना प्रारम्भ कर देंगे. आपका भाई ऐसा नहीं चाहता था.'
  • रिपोर्ट्स के मुताबिक इस हमले में बकिस्तानी नाम का जो एक अन्य आतंकवादी मारा गया वो पाक में पूर्ण प्रशिक्षित था व उसने कई भारतीय युवाओं को आतंक के रास्ते पर चलने के लिए भड़काया था.

केरल के लोगों को बना रहे निशाना

  • पिछले कुछ वर्षों के दौरान केरल से 98 लोग जाकर इस्लामिक स्टेट में भर्ती हो चुके हैं. इनमें से 38 लोगों की मृत्यु हो चुकी है, वहीं 60 लोग अब भी जिंदा हैं व आतंकवादी संगठन के लिए लड़ रहे हैं.
  • सरकारी आंकड़ों के मुताबिक आतंकवादी संगठन को ज्वॉइन करने वाले ज्यादातर लोग प्रदेश के कन्नूर जिले से हैं. वहां के करीब 40 लोग इस आतंकवादी संगठन में जा चुके हैं.जिनमें 8 महिलाएं भी हैं.
  • कन्नूर के अतिरिक्त कासरगोड, कोझिकोड, मलप्पुरम, पलक्कड़, एर्नाकुलम व थ्रिसुर के लोगों ने भी इस आतंकवादी संगठन को ज्वॉइन किया है. इनमें से ज्यादातर लोग सोशल मीडिया के जरिए ISIS से प्रभावित हुए थे.
  • बताया जाता है कि ISIS से सहानुभूति रखने वाले मलयाली ग्रुपों के ज्यादातर सोशल मीडिया अकाउंट्स गल्फ राष्ट्रों से चल रहे हैं. ये ग्रुप खासकर केरल में रहने वाले मुस्लिमों पर अपना जाल फेंककर उन्हें फंसाते हैं.