क्या आप जानते है मौत से पहले लोगों की बोलने की ताकत चली जाती है जानिए कैसे

क्या आप जानते है मौत से पहले लोगों की बोलने की ताकत चली जाती है जानिए कैसे

आमतौर पर माना जाता है कि मौत से पहले ज्यादातर लोगों की बोलने की ताकत चली जाती है। अगर कोई बोलने की प्रयास भी करता है तो स्पष्ट तौर पर अपने शब्दों को नहीं बोल पाता। कई बार एक दो शब्दों के बाद चेतना जवाब दे देती है। इसे लेकर विदेश में कई इस्तेमाल हैं लेकिन हाल ही हुई एक स्टडी चर्चा में है।
कुछ समय पहले इस बारे में अमेरिकी पत्रिका "अटलांटिक" ने एक बड़ा लेख छापा। उसमें इस तरह के ना जाने कितने ही उदाहरण दिए गए व कई अध्ययन का हवाला दिया गया।

ज्य़ादातर यही बोला गया है कि आखिरी समय में चेतना समाप्त हो जाती है, कुछ बोलने की ताकत नहीं रह जाती। शख्स अपने को लोगों से कटने लगता है। मरते हुए शख्स की भाषा क्या होती है, इस बारे में वाकई ज्यादा कुछ लिखा नहीं है। मृत्यु के अच्छा पहले की स्थितियों को लेकर 17वीं शताब्दी से ही कौतुहल रहता आया है।

जब अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति जार्ज एच डब्ल्यू बुश की मौत हुई तो मीडिया में बड़े पैमाने पर बोला गया कि उनके आखिरी शब्द "आई लव यू टू" थे।

लिजा स्मार्ट नाम की एक भाषा विज्ञानी ने पिता की मृत्यु के बाद "वर्ड्स ऑन थ्रेसहोल्ड" नाम की एक किताब प्रकाशित की। इस किताब में 181 मरणासन्न लोगों की करीब 2000 बातों का जिक्र था, जिसमें उनके पिता भी थे।

मरने वाले आखिरी समय में वाकई क्या बोलते हैं
इस किताब की अपनी सीमाएं हैं लेकिन इसके बाद भी ये शानदार कार्य है, ये उन उत्सुकताओं को शांत करने वाला अकेला प्रकाशित कार्य है कि मरते हुए लोग वाकई क्या बोलते हैं। इससे पता लगा कि उनके आखिरी शब्द क्या होते हैं।
स्मार्ट पिता के बिस्तर के पास, जब वो अपने आखिरी दिनों में थे
पेशे व मरने से पहले चेतना का क्या कोई संबंध है
अमेरिकी एंथ्रोपॉलोजिस्ट आर्थर मैकडोनाल्ड ने भी मरने से पहले लोगों की मानसिक हालात को जांचने पर कार्य किया। उन्होंने ये देखा कि उनके आखिरी शब्द क्या रहे। उन्होंने पेशागत तौर पर लोगों को दस कैटेगरी में बांटा (सेल्समैन, फिलास्फर, कवि आदि)। उनके अंतिम शब्दों पर गौर किया। तब देखा गया कि मिलिट्री जुड़े रहे लोगों ने सबसे ज्यादा आदेश या चेतावनी दी जबकि फिलास्फर्स (गणितज्ञ व एजुकेशन विज्ञानी शामिल) के पास सबसे ज्यादा सवाल, जवाब व विस्मय थे।
धार्मिक व राजसी लोगों ने संतुष्टी या असंतुष्टी भरे शब्दों का ज्यादा उल्लेख किया जबकि कलाकार व वैज्ञानिक आमतौर पर सबसे कम बोले।
पूरी संसार में हमेशा से ये जिज्ञासा रही है कि मौत से अच्छा पहले मनुष्य की गतिविधियां किस तरह की हो जाती हैं

सुनना जरूर जारी रहता है
"द अटलांटिक" में प्रकाशित रिपोर्ट इस मुद्दे पर भरपूर प्रकाश डालती है। बकौल इसके, 1992 में नर्स का कार्य करने वाली मैगी कैलनन व पैट्रिशिया कैली की किताब "फाइनल गिफ्ट्स" प्रकाशित हुई। फिर साल 2007 में मौरिन कीले की किताब "फाइनल कंवर्जन" आई। कैलनन अपनी किताब में कहती हैं, "जब कोई शख्स निर्बल हो जाता है। अंतिम समय में ज्यादा सोने लगा हो, तब उसका संवाद दूसरों के साथ कहीं ज्यादा गूढ़ होता है। "
कैलनन व कैली ने लिखा, "यहां तक कि जब कोई बहुत निर्बल हो जाता है या अपनी चेतना खो बैठता है तब भी वो बोल या सुन सकता है। सुनना तो ऐसी इंद्रीय है, जो सबसे आखिर में कार्य करना बंद करती है। '

ज्यादातर लोग नहीं बोल पाते

कीले कहती हैं, "जीवन के आखिर में ज्यादातर लोग नहीं बोल पाते। क्योंकि शरीर कार्य बंद कर रहा होता है। वो अपनी शारीरिक ताकत खो चुका होता है। कई बार फेफड़े भी कार्य करना बंद कर चुके होते हैं। तब वो फुसफुसा सकता है या बहुत कम बोल पाएगा। शायद एक या दो शब्द, क्योंकि उसके पास केवल इतनी ही ऊर्जा होती है। आमतौर पर मरणासन्न स्थिति में अगर परिवार के लोग उससे कुछ कहते हैं या पूछते हैं तो वो उसमें ना तो दखल दे पाता है व ना आपत्ति। "
ज्यादातर लोग आखिरी सांस के साथ मॉम या मामा जैसे शब्द बोलते हैं

सबसे ज्यादा किसको बुलाते हैं
कुछ लोग शांति में ही मर जाते हैं, खासकर अगर वो देमेंशिया या अल्जाइमर जैसी बीमार के शिकार हों। क्योंकि कई वर्ष पहले ही उनकी भाषा की ताकत समाप्त हो चुकी होती है। जो लोग बोल पाते हैं, वो भी अटकने लगते हैं। एक चिकित्सक ने कहा, मरते समय बीवी, पति या बच्चों का नाम लेने की प्रयास करते हैं।

उलझी बातें करने लगते हैं मरने वाले
रेमंड मूडी जूनियर ने 1975 में प्रकाशित अपनी बेस्ट सेलिंग बुक "लाइफ आफ्टर लाइफ" में लिखा अक्सर मरने वाला शख्स कुछ समय पहले से उलझी बातें करने लगता है। मसलन-" मुझे वहां समाप्त होना है", "मुझे समाप्त हो जाना है", "जिंदगी समाप्त हो जाएगी"। "जिंदगी का दिया बुझने वाला है" व भी इसी तरह की बातें। इन सारी बातों व शब्दों का मतलब मौत से प्रयत्न करने जैसा होता है।

आखिरी शब्द पर रिसर्च अब भी चुनौती
हालांकि बोलना चाहिए कि मरने के दौरान आमतौर पर जिस भाषा या शब्दों का प्रयोग किया जाता है, उसे समझना सरल नहीं। हालांकि अस्पतालों में लंबी बीमारी से जो लोग मरते हैं, उनके आखिरी शब्दों व गतिविधियों को रिकार्ड कर पाना ज्यादा संभव हो रहा है। हालांकि अध्ययन के बाद भी आखिरी शब्द अब भी एक चुनौती बने हुए हैं, अब भी आखिरी समय में कोई नहीं चाहता कि मरणासन्न के बिस्तर के आसपास कोई वैज्ञानिक उपस्थित रहे।