MeToo मुद्दे में हुए खुलासे, राॅउस एवेन्यू न्यायालय में सुनवाई प्रारम्भ

 MeToo मुद्दे में हुए खुलासे, राॅउस एवेन्यू न्यायालय में सुनवाई प्रारम्भ

MeToo मुद्दे को लेकर पूर्व केंद्रीय मंत्री एमजे अकबर की तरफ से दाखिल किए गए आपराधिक मानहानि के मुद्दे में दिल्ली की राॅउस एवेन्यू न्यायालय में सुनवाई प्रारम्भ हो चुकी है।एडीशनल चीफ मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट समर विशाल की न्यायालय में पत्रकार प्रिया रामानी का बयान रिकॉर्ड हो रहा है। पत्रकार प्रिया रमानी न्यायालय में अपना बयान दे रही हैं।

अपने बयान में प्रिया रमानी ने बोला कि, मैंने सत्य बोला है। जब मैंने अपने अनुभव का खुलासा किया। 'वोग' पत्रिका में मेरी पहली जॉब का साक्षात्कार व मेरे ट्वीट। स्त्रियों के लिए कार्यस्थल पर यौन उत्पीड़न के विषय में बताने के लिए जरूरी थे। हममें से कई लोगों का मानना है कि इस मुद्दे पर चुप भी रहा जा सकता था। चुप रहकर मैं बाद के इन विवादों टाल सकती थी, किन्तु ऐसा करना उचित नहीं होता। अपने सभी खुलासों में, मैंने सार्वजनिक हित व जनता की भलाई में हकीकत बोला है।

उन्होंने आगे बोला कि मुझे आशा थी कि MeToo मुद्दे में हुए खुलासे स्त्रियों को बोलने व कार्यस्थल पर उनके अधिकारों को बेहतर तरीका से समझने के लिए उन्हें सशक्त करेंगे। यह मुद्दा मेरे लिए एक बड़े शख्स के विरूद्ध था। मेरे पास इससे हासिल करने के लिए कुछ नहीं है। मैं एक सम्मानित पत्रकार हूं। मैं बैंगलोर में अपने परिवार के साथ शांति से ज़िंदगी व्यतीत कर रही हूं। किसी भी महिला के लिए इस तरह के खुलासे करना सरल नहीं होता है।