कप केक कोई अनजानी वस्तु नहीं, लवर्स के बीच कप केक बहुत ज्यादा लोकप्रिय

कप केक कोई अनजानी वस्तु नहीं, लवर्स के बीच कप केक बहुत ज्यादा लोकप्रिय

भारतीय बाजार में भी अब कप केक कोई अनजानी वस्तु नहीं रही. वैलेंटाइन डे पर इसकी बहुत ज्यादा मांग रहती है. कप केक एक तरह के मिनिएचर केक होते हैं जो वनीला, चॉकलेट से लेकर रेड वेलवेट जैसे फ्लेवर में आते हैं. इन्हें अंडे या बटर से स्मूद बनाया जाता है. ये मफिन्स से बहुत ज्यादा अलग होते हैं. मफिन्स जहां अपेक्षाकृत हार्ड होते हैं, कप केक सिल्की व मुलायम होते हैं. कप केप के बारे में पहला उल्लेख वर्ष 1796 में मिलता है जब 'अमेरिकन कुकरी' नामक किताब में एमेलिया सिमन्स ने इसकी रेसिपी प्रस्तुत की थी. रेसिपी का शीर्षक था - 'छोटे कप्स में बनाएं हल्के केक'.

पुरुषों का कार्य था बेकिंग
बेकिंग के पश्चिमी इतिहास को देखें तो आरंभ में बेकर्स केवल पुरुष हुआ करते थे. वे ही केक, कुकीज जैसी चीजें बनाने का कार्य किया करते थे. उस समय मिट्टी के ही ओवन होते थे व उन पर कार्य करना बहुत ज्यादा जोखिमभरा माना जाता था. इसलिए स्त्रियों को इससे दूर ही रखा जाता था. फिर औद्योगिकीकरण का शुरुआत हुआ. कुछ नए इनोवेशन के बाद ओवन कम जोखिम वाले बनने लगे. साथ ही कल-कारखाने खुलने से ज्यादातर पुरुष फैक्ट्रियों में कार्य करने लगे. ऐसे में महिलाएं बेकिंग के कार्य में आगे आईं. घर खर्च चलाने में पुरुषों की मदद करने के मकसद से भी स्त्रियों ने इस विधा में हाथ आजमाया व घर-घर में बेकिंग का कार्य किया जाने लगा. यहीं पर स्त्रियों ने अपनी क्रिएटिविटी भी दिखाई. एमेलिया सिमन्स भी इन्हीं में शामिल थीं, जिन्होंने 'अमेरिकन कुकरी' में कई तरह के व्यंजनों, केक व कप केप की विधि बताई. एमेलिया सिमन्स की कप केक की विधि जल्दी ही सारे अमेरिका में लोकप्रिय हो गई. बाद में स्त्रियों में कप केप में भी कई नए-नए इस्तेमाल किए जो न केवल सुन्दर थे, बल्कि स्वाद में भी अद्भुत.


पश्चिमी राष्ट्रों में हर उत्सव चाहे फिर वह विवाह हो, क्रिसमस हो, कोई जश्न का मौका हो या फिर छुट्टी का दिन, केक के बगैर पूरा नहीं होता. लवर्स के बीच कप केप बहुत ज्यादा लोकप्रिय है. इसकी ठोस वजह क्या है, यह कोई नहीं बता सकता. फिर भी एक वजह यह मानी जा सकती है कि ये बहुत ज्यादा सुन्दर व इजी टू केरी होते हैं. इसीलिए खासकर वेलेंटाइन डे पर पश्चिमी राष्ट्रों में प्रेमी-प्रेमिका द्वारा एक-दूसरे को कप केप उपहार में देने की परंपरा है जो धीरे-धीरे हमारे यहां भी प्रचलन में आती जा रही है.


अमेरिका की पहली कुक-बुक "अमेरिकन कुकरी"
दुनिया के सामने पहली बार कप केक की अवधारणा पेश करने वाली किताब "अमेरिकन कुकरी" सबसे पहले 1796 में कनेक्टीकट के हार्टफोर्ड में प्रकाशित हुई थी. यह अमेरिका की पहली कुकरी बुक मानी जाती है. इससे पहले कुकरी पर सभी किताबें केवल ब्रिटेन में ही छपी थीं. इस किताब में कई तरह के केक्स, पफ्स, पाई, पुडिंग्स, कस्टर्ड सहित कई तरह के पॉल्ट्री और फिश बेस्ड व्यंजनों की विधियां दी गई हैं. छपते ही यह किताब इतनी लोकप्रिय हो गई कि आने वाले 30 वर्षों में इसको सैकड़ों बार रीप्रिंट करवाया गया व आज भी करवाया जा रहा है. कुकिंग पर यह ऐसी पहली किताब थी जिसमें अमेरिकी इंग्रेडिएंट्स यूज किए गए थे. इनका उल्लेख भी उस भाषा में किया गया था, जिसे अमेरिकी समझ सके. इसीलिए लाइब्रेरी ऑफ कांग्रेस पार्टी ने अपनी उन किताबों की सूची में इसे भी जगह दिया है जिन्होंने अमेरिका व अमेरिकी संस्कृति के विकास में अतुलनीय सहयोग दिया है. इस किताब के पहले संस्करण की अब केवल 4 प्रतियां ही बची हैं.