हिंदुस्तान के ई-कॉमर्स सेक्टर में सबसे आगे होने का किया दावा

हिंदुस्तान के ई-कॉमर्स सेक्टर में सबसे आगे होने का किया दावा

देश में ई-कॉमर्स कंपनियों (E commerce Companies) ने आर्थिक सुस्ती (Global Slowdown) के बीच सिर्फ छह दिन में रिकॉर्ड 300 करोड़ डॉलर (करीब 21 हजार करोड़ रुपये) के सामान की बिक्री की है। कंसल्टिंग फर्म रेडसीर (Consulting firm RedSeer) की रिपोर्ट के मुताबिक, यह पिछले वर्ष के मुकाबले 30 प्रतिशत ज्यादा है। हालांकि, पहले कई रिपोर्ट्स में इस वर्ष कुल 370-380 करोड़ डॉलर (करीब 27000 करोड़ रुपये) की सेल्स का अनुमान लगाया गया था। कंसल्टिंग फर्म की रिपोर्ट में बोला गया है कि आर्थिक सुस्ती के बावजूद फेस्टिव सेल के पहले चरण में लगभग तीन अरब डॉलर की रिकॉर्ड GMV दर्ज हुई है। इससे औनलाइन शॉपिंग में ग्राहकों का अच्छा सेंटिमेंट बरकरार रहने का पता चलता है।

अमेजन से आगे निकली फिल्पकार्ट!-रिपोर्ट में बताया गया है कि त्याहोरी सीजन में सबसे ज्यादा सेल्स फ्लिपकार्ट (Flipkart) ने की है। इसका बाजार शेयर 60 फीसदी से अधिक रहा है। वहीं, अमेजन की हिस्सेदारी 30 प्रतिशत रही है।

>> एक्सपर्ट्स का बोलना है कि त्योहारी सीजन में अवधि में फ्लिपकार्ट ग्रुप की बिक्री में पिछले वर्ष के मुकाबले 58 प्रतिशत का इजाफा हुआ है।

>> पिछले वर्ष अमेजन की ग्रोथ इसी अवधि के 22 प्रतिशत रही थी। हालांकि, अमेजन ने इस रिपोर्ट को पूरी तरह से नकारा दिया है।

>> अमेजन की ओर से जारी बयान में बोला गया है कि हम ऐसी रिपोर्ट्स पर कोई टिप्पणी नहीं कर सकते, जिन्हें मजबूत व विश्वसनीय तरीका से तैयार किया गया हो।

>> पिछले सप्ताह फ्लिपकार्ट व अमेजन दोनों ही ने हिंदुस्तान के ई-कॉमर्स सेक्टर में सबसे आगे होने का दावा किया था। उन्होंने बोला था कि छोटे शहरों के ग्राहकों की संख्या बढ़ने से उनके बिजनस में अच्छी ग्रोथ हुई है।

लोगों ने सबसे ज्यादा Smart Phone खरीदे- रिपोर्ट में दावा किया गया है कि सबसे ज्यादा बिकने वाली कैटिगरी यानी स्मार्टफोन्स में फेस्टिव सीजन में औसत मूल्य 15-18 प्रतिशत बढ़ी है।

>> चाइना की कंपनी शाओमी व रियलमी को किफायती सेगमेंट से सबसे अधिक लाभ हुआ है। सैमसंग ने मिड व वनप्लस, एपल ने प्रीमियम सेगमेंट में अच्छा प्रदर्शन किया है।

-