पाक में कोरोना के संदिग्ध मामलों की संख्या 12 हजार से अधिक

पाक में कोरोना के संदिग्ध मामलों की संख्या 12 हजार से अधिक

पाक में कोरोना वायरस का प्रकोप लगातार बढ़ रहा है। रविवार शाम 4 बजे तक (स्थानीय समयानुसार) देश में 16 लोगों की मृत्यु हो चुकी है व इसकी चपेट में आने वालों की संख्या बढ़कर 1530 हो गई है। 

बताया गया है कि देश में कोरोना के संदिग्ध मामलों की संख्या 12 हजार से भी अधिक है। 'जंग' में प्रकाशित रिपोर्ट के अनुसार, बीते 24 घंटों में तीन व मौतों के बाद रविवार शाम तक पाक में कोरोना वायरस से मरने वालों की संख्या बढ़कर 16 हो गई। देश के सभी प्रांतों में इस बीमारी के नए मामलों का सामने आना जारी है व इनकी संख्या अब 1530 तक जा पहुंची है।

'द न्यूज' ने अपनी रिपोर्ट में अस्पतालों व आधिकारिक सूत्रों के हवाले से बताया है कि देश में इस समय बारह हजार से अधिक लोगों को कोरोना के संदेह में आइसोलेशन में रखा गया है व उनकी निगरानी की जा रही है। खुद सरकार ने शनिवार को बताया कि 7180 लोगों को क्वारंटाइन किया गया है। हालांकि, विशेषज्ञों का बोलना है कि पाक में कोरोना की जाँच इतनी कम संख्या में हो रही है कि यह पता चल पाना कठिन है कि इस बीमारी के दायरे में कितने लोग आ चुके हैं या आ सकते हैं।

'जियो न्यूज' की रिपोर्ट के मुताबिक, लाहौर की हेल्थ यूनिवर्सिटी के कुलपति डाक्टर जावेद अकरम ने बोला कि यह बता पाना कठिन है कि पाक में कोरोना के 14 सौ मुद्दे हैं या 14 हजार। उन्होंने बोला कि पांच करोड़ की आबादी वाले दक्षिण कोरिया ने लाखों लोगों के टेस्ट कराए जबकि उससे चार गुना अधिक की आबादी वाले पाक में दो हजार से भी कम टेस्ट अभी तक हुए हैं।

पाकिस्तान के पूर्व विज्ञान मंत्री और वैज्ञानिक अताउर रहमान ने भी कोरोना की कम जाँच पर सवाल उठाया व बोला कि जाँच नहीं होने से देश में बीमारी की ठीक तस्वीर सामने नहीं आएगी। पाक मुस्लिम लीग-नवाज के नेता शहबाज शरीफ ने इमरान सरकार से बोला कि वह स्थिति को छिपाने के बजाए ठीक तथ्य देश के सामने पेश करे।