अमेरिका भी कर रहा है चीनी ऐप्स पर प्रतिबंध लगाने पर विचार, पढ़े

अमेरिका भी कर रहा है चीनी ऐप्स पर प्रतिबंध लगाने पर विचार, पढ़े

चीनी कंपनी टिकटॉक की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं। हिंदुस्तान द्वारा बैन किए जाने के बाद अमेरिका भी चीनी ऐप्स पर प्रतिबंध लगाने पर विचार कर रहा है।

 इस बीच, अमेजन (Amazon) ने अपने कर्मचारियों से टिकटॉक (TikTok)  डिलीट करने को बोला है। कंपनी ने ईमेल के माध्यम से कर्मचारियों से बोला है कि जिस फोन पर वह अमेज़न से आने वाले ईमेल प्रयोग करते हैं, उससे TikTok तुरंत हटा दें।

कंपनी का बोलना है कि चीनी ऐप सुरक्षा के लिए खतरा है, इसलिए उस फोन पर टिकटॉक प्रयोग नहीं किया जाना चाहिए, जिस पर अमेजन से ईमेल आते हैं। हालांकि, टकराव बढ़ने के बाद कंपनी ने टिकटॉक हटाने संबंधी ईमेल को ‘गलती’ करार दिया है। अमेजन ने पहले अपने सभी कर्मचारियों को ईमेल भेजकर बोला था कि शुक्रवार तक अमेजन ईमेल प्रयोग करने वाले फोन से टिकटॉक हटा लिया जाना चाहिए, क्योंकि इससे सुरक्षा संबंधी जोखिम हैं। हालांकि, कर्मचारी दूसरे फोन पर या अमेजन लैपटॉप ब्राउजर से टिकटॉक का उपयोग जारी रख सकते हैं। दुनियाभर में 840,000 से अधिक कर्मचारियों के साथ अमेजन वॉलमार्ट के बाद दूसरा सबसे बड़ा व्यक्तिगत अमेरिकी नियोक्ता है। ऐसे में यदि कंपनी अपना आदेश वापस नहीं लेती, तो टिकटॉक को बहुत ज्यादा नुकसान उठाना पड़ सकता था।   

खुद को अमेजन का कर्मचारी बताने वाले कुछ सोशल मीडिया उपभोक्ता ने जैसे ही यह जानकारी शेयर की, हंगामा मच गया। टिकटॉक ने भी तुरंत रिएक्शन दे डाली। उसकी तरफ से बोला गया कि अमेजन ने हमें इस मामले में सूचित नहीं किया। हम उनकी चिंताओं को नहीं समझ सकते, इस विषय में हम जल्द ही अमेजन से बात करेंगे। इसके बाद अमेजन को सफाई देते हुए बोलना पड़ा कि टिकटॉक डिलीट करने के लिए कहने वाला ईमेल एक ‘गलती’ है। इस मुद्दे से जुड़े एक आदमी के मुताबिक, अमेजन के वरिष्ठ ऑफिसर इस फैसला से अंजान थे। बाद में अमेजन व टिकटॉक के अधिकारियों के बीच इस बारे में वार्ता हुई, जिसके आधार पर चीनी ऐप हटाने संबंधी आदेश को पलट दिया गया।

इस सप्ताह की आरंभ में अमेजन की तरफ से कर्मचारियों को एक ईमेल भेजा गया था। जिसमें स्पष्ट तौर पर बोला गया था कि कंपनी के स्वामित्व वाले मोबाइल फोन से चीनी ऐप टिकटॉक को तुरंत हटा लिया जाए। क्योंकि यह यह गोपनीयता व सुरक्षा के लिए चिंता बन सकता है। कंपनी की तरफ से प्रदान किये गए उपकरणों का प्रयोग केवल कंपनी के कार्य के लिए किया जाना चाहिए। यदि कर्मचारी टिकटॉक उपयोग करना चाहते हैं, तो वह दूसरी डिवाइस पर इसे इनस्टॉल कर सकते हैं’।    

अमेरिका चाइना टकराव व फिर भारत-चीन के बीच बढ़ती तल्खी को देखते हुए टिकटॉक खुद को चाइना से दूर प्रदर्शित करने का कोशिश कर रहा है। कंपनी ने हाल ही में अमेरिका में डिज्नी के वरिष्ठ ऑफिसर केविन मेयर को सीईओ नियुक्त किया है। ताकि ज़रूरत पड़ने पर वह अमेरिकी प्रशासन के साथ वार्ता कर सकें। इसके साथ ही टिकटॉक ने चाइना के नए राष्ट्रीय सुरक्षा कानून के कारण हांगकांग में अपने ऑपरेशन रोकने का ऐलान किया है। हालांकि, ये बात अलग है कि अमेरिका अभी भी टिकटॉक सहित सभी चीनी ऐप्स को सुरक्षा के लिए खतरा मानता है। हाल ही में विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने बोला था कि हम चीनी ऐप्स पर बैन लगाने पर गंभीरता से विचार कर रहे हैं। बताते चलें कि हिंदुस्तान पहले ही लद्दाख में हुई हिंसा के मद्देनजर टिकटॉक सहित 59 चाइनीज ऐप्स पर रोक लगा चुका है।