सुशांत हत्या मुद्दे में भाजपा नेता ने लिया डिनो मोरिया का नाम, आक्रोशित एक्टर ने कहा- प्लीज इसमें मेरा नाम न घसीटें

सुशांत हत्या मुद्दे में भाजपा नेता ने लिया डिनो मोरिया का नाम, आक्रोशित एक्टर ने कहा- प्लीज इसमें मेरा नाम न घसीटें

अभिनेता डिनो मोरिया ने उन खबरों का खंडन किया है, जिनमें दावा किया जा रहा था कि मृत्यु से एक रात पहले सुशांत सिंह राजपूत उनकी पार्टी में शामिल हुए थे. डिनो ने भड़कते हुए चेतावनी दी है कि उनका नाम इस मुद्दे में न घसीटा जाए. क्योंकि उनका इससे कुछ भी लेना-देना नहीं है.

डिनो ने ट्विटर पर लिखा है, "मेरे घर पर किसी तरह की गैदरिंग नहीं हुई. कृपया आरोप लगाने से पहले तथ्यों की जाँच कर लीजिए. मेरा नाम इसमें मत घसीटिए. क्योंकि जो कुछ भी हुआ, उससे मेरा कोई कनेक्शन नहीं है."

भाजपा नेता नारायण राणे ने किया था दावा

महाराष्ट्र के पूर्व सीएम व बीजेपी नेता नारायण राणे ने मंगलवार को मीडिया से वार्ता में बोला था कि सुशांत की मृत्यु से एक रात पहले 13 जून को डिनो मोरिया ने अपने घर में सुशांत सिंह राजपूत व कुछ राजनेताओं के लिए पार्टी होस्ट की थी. राणे के मुताबिक, पहले सभी डिनो के घर पार्टी कर रहे रहे थे व फिर वे सुशांत के घर पार्टी करने पहुंचे थे. हालांकि, मुंबई पुलिस 13 जून को सुशांत के घर पर किसी भी पार्टी की बात से मना कर चुकी है.

राणे का आरोप- सुशांत की मर्डर हुई

नारायण राणे ने आरोप लगाया कि सुशांत की मर्डर हुई है. उन्होंने कहा, 'सुशांत ने सुसाइड नहीं किया है. उसकी मर्डर हुई है. महाराष्ट्र सरकार केस पर ध्यान नहीं दे रही, क्योंकि वह किसी को बचाने की प्रयास कर रही है.'

राणे ने सुशांत की मैनेजर दिशा सालियान की मृत्यु को लेकर भी सवाल उठाए थे. उनका दावा है कि दिशा ने आत्महत्या नहीं की थी. उनका बलात्कार करने के बाद मर्डर की गई थी. राणे के मुताबिक, दबाव के कारण दिशा के परिवार ने जाँच की मांग नहीं की. राणे का दावा है कि ऑटोप्सी रिपोर्ट में दिशा के प्राइवेट भाग में चोट के निशान का जिक्र है.

9 जून को दिशा व 14 जून को सुशांत की मौत

9 जून को दिशा सालियान की मृत्यु की समाचार आई थी. रिपोर्ट्स के मुताबिक, उन्होंने 14वें माले से कूदकर जान दी थी. इसके 5 दिन बाद 14 जून को सुशांत सिंह राजपूत के सुसाइड की समाचार सामने आई. वे बांद्रा स्थित अपने फ्लैट में फंदे से लटके पाए गए थे. सुशांत की मृत्यु के 50 दिन बाद बिहार सरकार ने मुद्दे की जाँच CBI से कराने की सिफारिश की. सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने बुधवार को बताया कि बिहार सरकार की CBI जाँच की सिफारिश केन्द्र ने मंजूर कर ली है.